हमारे साथी

Sunday, 14 May 2017

पाठक का रोजनामचा



यह चौथी किताब है । इस किताब मे अलग अलग समय पर विभिन्न विषयों पर लिखे गये आलेखों का संग्रह है । कुछ मेरे प्रारम्भिक लेख भी इसमें है जैसे आदिकाल और लोकजीवन, भक्ति का उदय और लोक की भूमिका, सन्तपरम्परा और दादू दयाल, लेकिन अधिकतर आलेख पढी हुई किताबों पर हैं । साथी योगेंद्र कृष्णा की कविता के विरुद्ध, Bharat Prasad की एक पेढ़ की आत्मकथा, सुशील कुमार की जनपद झूठ नही बोलता, राजकिशोर राजन की कुशीनारा से गुजरते, घनश्याम त्रिपाठी की समुद्र को बाँधना अभी शेष है, अजय कुमार पांण्डेय की यही दुनिया है, Brijesh Neeraj का कोहरा सूरज धूप, Ganesh Gani की कविताओ पर प्रतिक्रिया, बिहर के बुजुर्ग गज़लकार नन्द किशोर नन्दन के गज़ल संग्रह और आग हुए हम, गीतकार रामशंकर वर्मा Ramshanker Verma के गीत संग्रह की भूमिका भी इसी मे सन्निविष्ट है । वरिष्ठ कथाकार Harnot SR Harnot के कहानी संग्रह लिटन ब्लाक गिर रहा था, Hareprakash Upadhyay के उपन्यास बखेडापुर, सन्दीप मील Sandeep Meel के कहानी संग्रह कोकिला शास्त्र और दूजी मीरा पर आलेखों के अतिरिक्त दो प्रतिरोध के आलोचकों नीलकान्त, गणेश पाण्डेय Ganesh Pandey की आलोचकीय स्थापनाओं पर चर्चा है । इनमे से कई सारे आलेख पहले छप चुके हैं कुछ नये लिखे हैं तो कुछ मे किताब के शीर्षक के अनुरूप फेरबदल किया है । किताब का कवर जाने माने चित्रकार Banshilal Parmar जी ने बनाया है उनका बहुत बहुत आभार, प्रकाशन के लिए लोकोदय प्रकाशन का धन्यवाद!
- उमाशंकर सिंह परमार 

Tuesday, 9 May 2017

प्रतिक्रिया

2015 दीपावली में गीत-नवगीत का मेरा पहला संकलन "चार दिन फागुन के"' उत्तरायण प्रकाशन लखनऊ से प्रकाशित हुआ था. इस संकलन के कई गीत विभिन्न पत्रिकाओं और समाचार पत्रों में छपे, काव्य गोष्ठियों में सुनाने का आग्रह भी रहा. छिंदवाडा निवासी चित्रकार, रंगकर्मी और नवगीतकार और मेरे प्रिय मित्र Rohit G Rusia ने इसका मुखपृष्ठ तैयार किया था और इसका लोकार्पण आदरणीया पूर्णिमा वर्मन द्वारा आयोजित नवगीत महोत्सव-२०१५ में देश के दिग्गज नवगीतकारों के हाथों लखनऊ में संपन्न हुआ था. पुस्तक ने मुझे पहचान दिलाई और उत्तर प्रदेश सरकार का प्रतिष्ठित 51 हज़ार रुपये का हरिवंश राय बच्चन पुरस्कार भी दिलाया. हालांकि कुण्डलिया संकलन प्रकाशित कराने की भाई Trilok Singh Thakurela जी लगातार राजस्थान से हुरियाते रहे. लेकिन गीत नवगीत मेरी प्रिय विधा होने के कारण ""चार दिन फागुन के" बाजी मार ले गयी. आजकल वे नाराज़ भी चल रहे हैं.
इधर भाई Brijesh Neeraj ने कुछ उत्साही युवा साहित्यप्रेमियों के साथ मिलकर लोकोदय प्रकाशन की परिकल्पना साकार की. प्रयोग के तौर पर समकालीन कविता के युवा ख्यातिनाम आलोचक उमाशंकर सिंह परमार की आलोचना पुस्तक 'प्रतिपक्ष का पक्ष' और युवा कहानीकार Sandeep Meel का कहानी संग्रह 'कोकिला शास्त्र" आया. दोनों पुस्तकें अपनी-अपनी विधा में एक विशिष्ट स्थान रखती हैं और आने वाले समय में इन विधाओं को एक नयी दिशा दे सकती हैं चर्चा के केंद्र में तो रहेंगी ही. बांदा में आयोजित गत वर्ष के लोकविमर्श कार्यक्रम में इन दोनों सेलेब्रिटीज से मिलना भी एक उपलब्धि रही.
अब कुण्डलिया संग्रह "मुठभेड़ समय से" शीघ्र ही लोकोदय प्रकाशन से छपकर आपके हाथों में होगा. इसमें लगभग २०० से ऊपर कुण्डलियाँ हैं. इसका मूल्याङ्कन सायास ही भाई उमाशंकर सिंह परमार को दिया गया ताकि छंदबद्ध कविता को समकालीन कविता के आलोचकों की दृष्टि से भी परखा जा सके. भाई उमाशंकर परमार जी ने अपनी ख्याति के अनुरूप ही निरपेक्ष और दबंग बेबाक राय जाहिर की है आप भी देखिये:
"आधुनिक काल में साठ सत्तर के दशक में लय व गीतों पर जिस तरह से आलोचकीय बुर्जुवावाद थोपा गया उससे हिन्दी कविता की व्यापकता व परिक्षेत्र में काफी कमी आयी। आलोचना के यथार्थवाली मूल्यों में लय और छन्दों के बहिष्कार का माध्यम कविता के फार्मेट को बनाया न कि कान्टेट को। यह एक बड़ी विडम्बना है। लोक जीवन में संघर्षरत बहुत से कवि जिनकी कविता आमजन मानस को सहज में प्रभावित कर सकती है। वह अचानक ”कविता’’ की जमात से बाहर हो गये। बहुत से कवि हैं जिनका कान्टेन्ट किसी प्रतिबद्ध कवि से कमतर नहीं है। पर महज उन्हें फार्मेंट व बुनावट के आधार पर जमात से बाहर का रास्ता दिखा देना आलोचकीय बुर्जुवावाद कहा जायेगा।
यदि हम कविता की वैविध्यपूर्ण विरासत को विशाल लोकधर्मी परम्परा से जोड़ना चाहते हैं, तो बेहद जरूरी है इस आलोचकीय रीतिशास्त्र की भेड़िया धसान का प्रतिरोध करना। गीत और छन्दबद्धता के विरोध के नाम पर अकविता आन्दोलन चला उन लोगों में कन्टेन्ट और रचनात्मक स्तर पर कविता को बहुत नुकसान किया। लेकिन उन रचनाकारों की प्रशंसा करनी चाहिए जो अकवितावादियों की छींटाकसी सहकर अपनी मौलिक परम्परा से जुड़े हुए निरन्तर गीत साधना करते रहे और आज तक गीत व छन्दों की जन प्रिय परम्परा को बरकरार रखे हुए हैं।""
मेरे जैसे लय के आग्रही व्यक्ति के लिए यह बड़ी बात है. पुस्तक के बारे में कुछ नहीं कहूँगा. बस यही कि इसका मुखपृष्ठ प्रसिद्द चित्रकार और "'रंग जो छूट गया" के कवि Kunwar Ravindra ने तैयार किया है. यह मुझे बहुत पसंद आया. इसकी बेसब्री से प्रतीक्षा है मुझे और ठकुरेला जी को. शेष फिर. फिलहाल आप इसका मुखपृष्ठ देख सकते हैं. प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा रहेगी.
- रामशंकर वर्मा 


प्रतिक्रिया

लोकोदय प्रकाशन लखनऊ ने दो किताबें भेजी हैं। आभार सहित पावती। 
पहली पुस्तक है संदीप मील का कथा संग्रह कोकिलाशास्त्र और दूसरी है उमाशंकर सिंह परमार की आलोचना पुस्तक प्रतिपक्ष का पक्ष। दोनों से गुजरना हुआ। 
संदीप मील कहानी को औज़ार की तरह इस्तेमाल करते हैं। उनके यहां मध्यवर्गीय कलावाद या टूट फूट चुकी नैतिकताओं के लिए कोई स्थान नहीं है। एक कहानी होती है जो अनवरत चलती है। कहीं रुकती नहीं और न कहीं विचलित होती है। इन कहानियों को पढ़ते हुये मुझे बहुत कुछ मंटो की याद आती रही। 
उमाशंकर सिंह परमार की आलोचना में युवा आक्रोश ही नहीं, युवा क्रोध के स्वर मौजूद हैं। उनकी उग्र वामपंथी विचारधारा को समझे बगैर इन स्वरों को आत्मसात नहीं किया जा सकता। वे एक धुर गंवई इलाके में रहते हैं, जहां शहरी मध्यवर्ग का आनंदवादी आस्वाद पैदा कर पाना मुमकिन नहीं हो सकता। ऐसा करने की उनकी कोई मंशा भी नहीं प्रतीत होती।
- राजकुमार राकेश